Knowledge is everything

Authors

Items 26 to 50 of 373 total

Grid  List 

Set Ascending Direction
per page
  1. द्वितीय विश्वयुद्ध

    द्वितीय विश्वयुद्ध

    Rs30.00

    द्वितीय विश्व युद्ध की कहानी वास्तव में एडोल्फ हिटलर की कहानी ही कहनी चाहिए। एडोल्फ हिटलर की मानसिक अवस्था की जन्मदाता जर्मन जाति की मानसिक अवस्था है। Learn More
  2. परम्परा (राम कथा-2)

    परम्परा (राम कथा-2)

    Rs70.00

    परम्परा (राम कथा-2) Learn More
  3. हिन्दी साहित्य का गौरवशाली इतिहास- Farhana Taz (Madhu Dhama)

    हिन्दी साहित्य का गौरवशाली इतिहास- Farhana Taz (Madhu Dhama)

    Rs180.00

    हिन्दी साहित्य का गौरवशाली इतिहास Learn More
  4. प्रजातंत्र अथवा वर्णाश्रम व्यवस्था

    प्रजातंत्र अथवा वर्णाश्रम व्यवस्था

    Rs60.00

    प्रजातंत्र अथवा वर्णाश्रम व्यवस्था Learn More
  5. Learn-How to Play-Casio

    Learn-How to Play-Casio

    Rs100.00

    Learn-How to Play-Casio Learn More
  6. धरती और धन

    धरती और धन

    Rs300.00

    धरती और धन- बिना परिश्रम धरती स्वयमेव धन उत्पन्न नहीं करती। इसी प्रकार बिना धरती (साधन) के परिश्रम मात्र धन उत्पन्न नहीं करता। Learn More
  7. पंकज

    पंकज

    Rs60.00

    बनते हुए नगरों में, जहाँ महल और अटारियाँ निर्मित होती हैं, वहाँ दो-चार गन्दी बस्तियाँ भी बन जाती हैं। नगर-निर्माण कार्य में जहाँ लाखों रुपये लगाने वाले ठेकेदारों और इमारती सामान बेचने वालों की आवश्यकता रहती हैं, वहाँ मजदूरों की, जो खुदाई करते हैं, ईंटें ढोते हैं, सड़कें कूटतें हैं और अन्य अनेकों इसी प्रकार के कार्य करते हैं, भी आवश्यकता रहती हैं। Learn More
  8. एक हकीकत (नई गज़लें)

    एक हकीकत (नई गज़लें)

    Regular Price: Rs250.00

    Special Price: Rs150.00

    एक हकीकत (नई गज़लें) Learn More
  9. ब्रह्मविद्या रहस्य (पंचोपनिषदों का भावार्थ)

    ब्रह्मविद्या रहस्य (पंचोपनिषदों का भावार्थ)

    Rs100.00

    ब्रह्मविद्या रहस्य (पंचोपनिषदों का भावार्थ) Learn More
  10. The Vedic-Way To Health, Beauty, Longevity And Rejuvenation

    The Vedic-Way To Health, Beauty, Longevity And Rejuvenation

    Rs85.00

    The Vedic-Way To Health, Beauty, Longevity And Rejuvenation Learn More
  11. 1857 ka swatantra samar

    1857 ka swatantra samar

    Rs800.00

    hindi Learn More
  12. Vedon mein Rashtra Bhakti

    Vedon mein Rashtra Bhakti

    Rs40.00

    Hindi Learn More
  13. हिन्दू राष्ट्र

    हिन्दू राष्ट्र

    Rs50.00

    शाश्वत का अर्थ है सदा रहनेवाला, नित्य। जो नित्य है वह सबके लिए है। ज्ञान का मूल स्रोत परमात्मा है और परमात्मा का ज्ञान वेद ज्ञान है। यह ज्ञान का प्राणीमात्र के लिये है। जैसे एक वृक्ष, जिसका सम्बन्ध मूल से कट गया हो, शीघ्र ही सूखने तथा सड़ने लगता है, इसी प्रकार मानव समाज भी, मूल ज्ञान से विच्छिन्न हो सूख तथा सड़ रहा है। मानव-समाज मानवता-विहीन हो रहा है। Learn More
  14. वाम मार्ग

    वाम मार्ग

    Rs400.00

    वाम मार्ग Learn More
  15. ताज महल मन्दिर भवन है

    ताज महल मन्दिर भवन है

    Rs110.00

    ताज महल मन्दिर भवन है Learn More
  16. सैल्फ डिफैन्स ‘‘चाईनीज कुँग-फू’’तकनीक द्वारा आत्म सुरक्षा’’

    सैल्फ डिफैन्स ‘‘चाईनीज कुँग-फू’’तकनीक द्वारा आत्म सुरक्षा’’

    Rs150.00

    सैल्फ डिफैन्स ‘‘चाईनीज कुँग-फू’’तकनीक द्वारा आत्म सुरक्षा’’ Learn More
  17. Sambhog se Samadhi Ki Aur

    Sambhog se Samadhi Ki Aur

    Rs275.00

    Hindi Learn More
  18. Sakraj Jaidaman

    Sakraj Jaidaman

    Rs300.00

    Sakraj Jaidaman in Hindi Learn More
  19. प्रतिशोध

    प्रतिशोध

    Rs80.00

    दुनियादारी में साधारणतः और राजनीति में विशेष रूप से यह माना जाता है कि शत्रु मित्र होता है। इस मान्यता पर राज्य और सांसारिक जीव कार्य करते भी देखे जाते हैं। परन्तु क्या यह मान्यता ठीक है ? यही इस पुस्तक का विषय है। Learn More
  20. हिटलर की कहानी

    हिटलर की कहानी

    Rs30.00

    हिटलर की कहानी Learn More
  21. लेखन पर अन्य लेखकों,विचारकों एवं परिचितों के विचार

    लेखन पर अन्य लेखकों,विचारकों एवं परिचितों के विचार

    Rs500.00

    लेखन पर अन्य लेखकों,विचारकों एवं परिचितों के विचार Learn More
  22. Desire ( Novel)

    Desire ( Novel)

    Rs50.00

    Desire ( Novel) Learn More
  23. Kaun Kehta Hai Akbar Mahan Tha

    Kaun Kehta Hai Akbar Mahan Tha

    Rs110.00

    Kaun Kehta hai Akbar Mahan tha, this is small Hindi edition, Big edition is also available at price of Rs 250- Learn More
  24. Bhartiya Musalmano ke Hindu Purvaj Musalman kaise bane
  25. जमाना बदल गया - भाग 2

    जमाना बदल गया - भाग 2

    Rs150.00

    इस उपन्यास के प्रथम भाग की भूमिका में हमने संक्षिप्त रूप में यह बताने का यत्न किया था कि भारत की दासता का कारण एक ओर तो बौद्ध-जैन मीमांसा तथा दूसरी ओर नवीन वेदान्त है। जहाँ बौद्ध-जैन मतावलम्बी भारत के जन-मानस को वेदों से पृथक् करने के लिए यत्नशील रहे, वहाँ नवीन वेदान्तियों ने जन-मानस को वेदों से दूर तो नहीं किया, परन्तु वेदों को जन-मानस से दूर कर दिया। हमारा अभिप्राय यह है कि वेदों के स्थान पर उपनिषद और गीता को लाकर प्रतिष्ठित कर दिया। यह एक विडम्बना-सी प्रतीत होती है कि स्वामी शंकराचार्यजी ने अपने प्रस्थानत्रयी के भाष्य में अनेक स्थलों पर वेद-संहिताओं को कर्मकाण्ड की पुस्तकें कह कर उन्हें केवल अज्ञानियों के लिए स्वर्गारोहण के निमित्त बताया है। परन्तु किसी भी स्थल पर संहिताओं का प्रमाण नहीं दिया। एक ढंग से चारों वेदों को, जिनका नव-संकलन श्रीकृष्ण द्वैपायन व्यासजी ने किया था, उन्होंने अनादर की वस्तु बना कर केवल उपनिषदों को ही परम ज्ञान की वस्तु सिद्ध करने का ही प्रयास किया है। Learn More

Items 26 to 50 of 373 total

Grid  List 

Set Ascending Direction
per page