Knowledge is everything

Gurudutt

Items 16 to 30 of 178 total

Grid  List 

Set Descending Direction
per page
  1. बुद्धि बनाम बहुमत

    बुद्धि बनाम बहुमत

    Rs30.00

    श्री गुरुदत्त जी ने पिछले 60 वर्षों से देश की राजनीति का गम्भीर अध्ययन किया है और लगभग 15 वर्ष तक सक्रिय राजनीति में भाग लिया है। राजनीति के गहन अध्ययन का परिचय हमें उनकी रचनाओं में मिलता है। आज देश की राजनीति कितनी ओछी हो चुकी है, यह पाठकों को बताने की आवश्यकता नहीं रही। समाचार-पत्र इसके प्रत्यक्ष प्रमाण हैं। और यह भी तथ्य है कि सभी राजनातिक दल इसमें दोषी हैं। Learn More
  2. खण्ड 8 - देश की हत्या, विश्वासघात (राजनीतिक श्रृंखला के उपन्यास)

    खण्ड 8 - देश की हत्या, विश्वासघात (राजनीतिक श्रृंखला के उपन्यास)

    Rs300.00

    देश की हत्या, विश्वासघात (राजनीतिक श्रृंखला के अन्तिम उपन्यास) Learn More
  3. विश्वासघात (स्वाधीनता आन्दोलन 1946 से 47 का काल)

    विश्वासघात (स्वाधीनता आन्दोलन 1946 से 47 का काल)

    Rs110.00

    विश्वासघात (स्वाधीनता आन्दोलन 1946 से 47 का काल) Learn More
  4. मेघवाहन

    मेघवाहन

    Rs65.00

    उपन्यासकार श्री गुरुदत्त जी का जीवन विगत 94 वर्षों से सतत साधनारत रहने के फलस्वरूप तपकर ऐसा कुन्दन बन गया है कि जिसकी तुलना अब किसी अन्य से नहीं अपितु उनसे ही की जा सकती है। ठीक उसी प्रकार जिस प्रकार सागर और आकाश की तुलना किसी अन्य से नहीं अपितु सागर और आकाश से ही की जा सकती है। वर्षों पूर्व श्री गुरुदत्त जी के किसी अभिनन्दन समारोह में दिल्ली विश्वविद्यालय के हिन्दी विभाग के भूतपूर्व अध्यक्ष डॉ. विजयेन्द्र स्नातक ने उनके प्रति अपने श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए कहा था—‘कोई भी उनको बैठे उनके दैदीप्यमान मुखाकृति को देखे तो यही अनुभव करेगा मानो मार्ग-निर्देशन करता हुआ-सा कोई तपस्वी बैठा है।’ Learn More
  5. श्री कृष्ण

    श्री कृष्ण

    Rs30.00

    श्री कृष्ण Learn More
  6. धर्म तथा समाजवाद

    धर्म तथा समाजवाद

    Rs55.00

    मानसिक दासता का यह लक्षण है कि व्यक्ति अपने स्वामी के गुणगान करने लगता है। शारीरिक दासता और मानसिक दासता में अन्तर होता है। शरीर से दास व्यक्ति मालिक की आज्ञा का पालन तो करता है, परन्तु वह उसको श्रेष्ठ नहीं समझता। Learn More
  7. द्वितीय विश्वयुद्ध

    द्वितीय विश्वयुद्ध

    Rs30.00

    द्वितीय विश्व युद्ध की कहानी वास्तव में एडोल्फ हिटलर की कहानी ही कहनी चाहिए। एडोल्फ हिटलर की मानसिक अवस्था की जन्मदाता जर्मन जाति की मानसिक अवस्था है। Learn More
  8. परम्परा (राम कथा-2)

    परम्परा (राम कथा-2)

    Rs70.00

    परम्परा (राम कथा-2) Learn More
  9. Jagat Ki Rachna

    Jagat Ki Rachna

    Rs30.00

    hindi Learn More
  10. पंकज

    पंकज

    Rs60.00

    बनते हुए नगरों में, जहाँ महल और अटारियाँ निर्मित होती हैं, वहाँ दो-चार गन्दी बस्तियाँ भी बन जाती हैं। नगर-निर्माण कार्य में जहाँ लाखों रुपये लगाने वाले ठेकेदारों और इमारती सामान बेचने वालों की आवश्यकता रहती हैं, वहाँ मजदूरों की, जो खुदाई करते हैं, ईंटें ढोते हैं, सड़कें कूटतें हैं और अन्य अनेकों इसी प्रकार के कार्य करते हैं, भी आवश्यकता रहती हैं। Learn More
  11. श्रीमढ्भगवढ्गीता (भाष्य)

    श्रीमढ्भगवढ्गीता (भाष्य)

    Rs200.00

    Sanskrit & Hindi श्रीमढ्भगवढ्गीता (भाष्य) Learn More
  12. हिन्दू राष्ट्र

    हिन्दू राष्ट्र

    Rs50.00

    शाश्वत का अर्थ है सदा रहनेवाला, नित्य। जो नित्य है वह सबके लिए है। ज्ञान का मूल स्रोत परमात्मा है और परमात्मा का ज्ञान वेद ज्ञान है। यह ज्ञान का प्राणीमात्र के लिये है। जैसे एक वृक्ष, जिसका सम्बन्ध मूल से कट गया हो, शीघ्र ही सूखने तथा सड़ने लगता है, इसी प्रकार मानव समाज भी, मूल ज्ञान से विच्छिन्न हो सूख तथा सड़ रहा है। मानव-समाज मानवता-विहीन हो रहा है। Learn More
  13. वाम मार्ग

    वाम मार्ग

    Rs400.00

    वाम मार्ग Learn More
  14. एक मुह दो हाथ

    एक मुह दो हाथ

    Rs250.00

    लेखक की मान्यता - ईश्वर की सर्वोत्तम कृति मानव, कर्म करने को स्वतंत्र। मानव के दो हाथ होते है एक मुह होता है , अतः वह अपनी आवश्यकता से दो गुणा कार्य कर सकता है , फिर क्यों वह सद्कर्म से हिचकिचाता है , यही विषय है इस पुस्तक का। ऐतिहासिक रचना Learn More
  15. प्रतिशोध

    प्रतिशोध

    Rs80.00

    दुनियादारी में साधारणतः और राजनीति में विशेष रूप से यह माना जाता है कि शत्रु मित्र होता है। इस मान्यता पर राज्य और सांसारिक जीव कार्य करते भी देखे जाते हैं। परन्तु क्या यह मान्यता ठीक है ? यही इस पुस्तक का विषय है। Learn More

Items 16 to 30 of 178 total

Grid  List 

Set Descending Direction
per page